• calender
सुशील कुमार: अपराध के दलदल में कैसे फंसा दंगल का सुल्तान ?
मई 23, 2021 | By - नितिन सिंह भदौरिया

सुशील कुमार: अपराध के दलदल में कैसे फंसा दंगल का सुल्तान ?

भारत के लिए दो बार ओलंपिक मेडल जीत चुके पहलवान सुशील कुमार (Sushil kumar arrested) को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, सुशील (Wrestler Sushil Kumar) पर दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर राणा की हत्या का आरोप है। सागर की हत्या के बाद से सुशील फरार चल रहे थे। इसके चलते सुशील पर एक लाख और उनके साथी अजय पर 50 हजार रुपए का इनाम भी घोषित था। रविवार को सुशील और उनके साथी को मुंडका इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया। आज इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे कि कभी युवाओं का रोल मॉडल कहे जाने वाले सुशील आखिर हत्यारोपी कैसे बन गए।

कोर्ट ने अग्रिम जमानत देने से किया था इनकार

सुशील कुमार ने भारत के लिए दो बार जीता है मेडल

बीते 4 मई को उत्तरी दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में हुए विवाद में 23 साल के पहलवान सागर राणा (Wrestler Sagar rana) और उनके दो दोस्तों की कथित तौर पर कुछ अन्य पहलवानों ने बुरी तरह पिटाई की थी, जिसमें सागर की मौत हो गई थी। पीड़ितों का आरोप है कि झगड़े के समय ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार भी वहां मौजूद थे। दिल्ली की एक अदालत ने आरोपों को गंभीर बताते हुए सुशील को अग्रिम ज़मानत देने से इनकार कर दिया था। इसके चलते दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने सुशील को गिरफ्तार कर लिया है।

फ्लैट खाली कराने को लेकर हुआ था विवाद

पूरा मामला दिल्ली के मॉडल टाउन इलाके में एक फ्लैट को खाली करने को लेकर शुरू हुआ था, जिसकी प्राथमिकी (FIR) में पहलवान सुशील कुमार का नाम भी शामिल था। इसी के बाद 4 मई की देर रात छत्रसाल स्टेडियम में कुछ पहलवानों के बीच कहासुनी हुई जो देखते ही देखते झगड़े में बदल गई। इस घटना में 23 वर्षीय पहलवान सागर धनखड़ की मौत हो गई। स्टेडियम में सागर और उनके दो दोस्तों पर अन्य पहलवानों ने कथित रूप से हमला कर दिया था। हमला करने वालों में सुशील कुमार और उनके साथी भी शामिल थे।

सीसीटीवी फुटेज में देखे गए सुशील

मॉडल टाउन वाले फ्लैट को खाली कराने के लिए इस घटना को अंजाम दिया गया था। जांच के दौरान घटना की सीसीटीवी फुटेज भी बरामद की हुई थी।  फुटेज में सुशील 20-25 पहलवानों और असौदा गिरोह के बदमाशों के साथ सागर धनखड़ और दो अन्य को पीटता दिखा था। सभी लोग सागर (Wrestler sagar rana murder case) को लात-घूंसों, डंडों, बैट व हॉकी से मारते दिख रहे थे। फुटेज में सुशील सागर व दो अन्य पीड़ितों पर हॉकी चलाते दिख रहे थे।

सुशील पर एक लाख का इनाम

पुलिस ने सुशील कुमार पर रखा था एक लाख का ईनाम

छत्रसाल स्टेडियम की सीसीटीवी फुटेज व आरोपी प्रिंस के मोबाइल से मिले वीडियो से पता लगा कि सुशील कुमार पीड़ितों को हॉकी से पीट रहा था। फुटेज और वीडियो सुशील के खिलाफ अब तक का सबसे बड़ा सबूत हैं। पुलिस ने दोनों को ही जब्त कर सुशील पर इनाम घोषित कर दिया। इसके बाद से पुलिस को लगातार सुशील की तलाश थी।

प्रशिक्षित अपराधी सा था सुशील कुमार का व्यवहार

सुशील की गिरफ्तारी के बाद एक पुलिस सूत्र ने बताया कि वो एक प्रशिक्षित अपराधी (sushil kumar acted like a trained criminal) की तरह काम कर रहे थे। फरार होने के बाद वो 14 से अधिक नंबरों का इस्तेमाल का कर रहे थे। वह मदद पाने के लिए अपने सभी संपर्कों का उपयोग कर रहे थे। उसके दोस्तों ने उसे नकद दिया था जिसका इस्तेमाल उसने फरार होने के दौरान किया था। वह जानता था कि नकदी निकालने से वह फंस जाएगा। इसलिए उसने नकदी निकालने से परहेज किया।

सुशील को था बंदूक रखने का शौक

सुशील के बारे में कहा जाता है कि उन्हें बंदूक रखने का शौक था। वे बात-बात में किसी पर भी बंदूक तान देते थे। पहले सुशील टोल का काम करते थे, लेकिन बाद में उन्होंने यह काम छोड़ दिया। एक समय सुशील ने MCD के टोल का ठेका लिया था, इसे सुंदर भाटी के गुर्गे ऑपरेट करते हैं। हालांकि पुलिस ने इससे साफ इनकार किया है।

सुशील कुमार का है विवादों से है पुराना नाता

2016 के रियो ओलंपिक से ठीक पहले सुशील विवादों में फंसे थे। महाराष्ट्र के पहलवान नरसिंह पंचम यादव ने सितंबर 2015 में विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के दौरान 74 किलोग्राम फ्रीस्टाइल वर्ग में भारत को ओलंपिक का कोटा दिलाया था। तब नरसिंह ने कास्य पदक जीता था। उसी दौरान सुशील ने भी 74 किलोग्राम फ्रीस्टाइल वर्ग में अपना दावा ठोक दिया। सुशील किसी कारणवश ओलंपिक क्वालीफायर्स का हिस्सा नहीं बन सके। भारतीय कुश्ती महासंघ ने सुशील और नरसिंह के बीच ट्रायल करने का दावा किया था, लेकिन बाद में वह मुकर गया। इसे सुशील ने कोर्ट में चुनौती दी, लेकिन कोर्ट ने भी उनकी अपील खारिज कर दी। इसके बाद नरसिहं के ओलंपिक में जाने का रास्ता साफ हो गया।

सुशील कुमार पर लगाए गए गंभीर आरोप

पहलवान सुशील कुमार पर लग चुके हैं कई गंभीर आरोप

फिर एक ऐसी घटना घटी जिसने सुशील (Sushil kumar) को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया, दरअसल ओलंपिक से 10 दिन पहले नाडा द्वारा कराए गए डोप टेस्ट में नरसिंह पॉजटिव पाए गए और उनका ओलंपिक में जाने का सपना टूट गया। हालांकि नाडा ने उन्हें क्लीन चिट दे दी थी, लेकिन वाडा (वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी) ने नरसिंह के ओलंपिक में हिस्सा लेने से रोक लगा दी साथ ही उनपर 4 साल का प्रतिबंध भी लगा दिया। इस घटना के बाद नरसिंह ने सुशील पर गंभीर आरोप लगाए थे। नरसिंह ने कहा कि सुशील के कहने पर उनके खाने में कुछ मिलावट की गई है।

इसके बाद भी सुशील का विवादों से रिश्ता खत्म नहीं हुआ। साल 2017 में उनपर एक साथी पहलवान से मारपीट करने के आरोप लगाए गए। गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान सुशील कुमार पर पहलवान प्रवीण राणा ने मारपीट करने का आरोप लगाया था। इसके साथ ही सुशील पर कई बार जूनियर रेसलरों को प्रताड़ित करने के आरोप भी लगे हैं।

फिलहाल साल 2008 में बीजिंग ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल और 2012 लंदन ओलंपिक में देश को सिल्वर मेडल दिलाने वाले पहलवान सुशील कुमार पुलिस की गिरफ्त में हैं। पुलिस का कहना है कि सुशील से पूछताछ और मामले में आगे की विधिक कार्रवाई की जा रही है।

उम्मीद है कि आपको इस ब्लॉग में दी गई जानकारी पसंद आई होगी। AlShorts लगातार ऐसे ही विषयों पर आपको दिलचस्प जानकारी उपलब्ध कराता रहेगा। हमारे साथ जुड़े रहें और पढ़ते रहिए देश और दुनिया से जुड़े रोचक ब्लॉग्स।

Optimized with PageSpeed Ninja