दुनियाभर में वैक्सीनेशन की क्या है स्थिति, यहां जान लीजिए!
मार्च 2, 2021 | By - Abhishek Pandey

दुनियाभर में वैक्सीनेशन की क्या है स्थिति, यहां जान लीजिए!

कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर दुनियाभर में टीकाकरण (Vaccination) की तैयारियां जोरों पर हैं। जहां पहले इसके बढ़ते आंकड़े दुनियाभर के लोगों को डरा रहे थे वहीं अब वैक्सीनेशन की प्रक्रिया (Vaccination Drive) शुरू हो जाने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली है। विश्व के प्रमुख देशों ने समय रहते वैक्सीन निर्माण किया, और साथ-साथ टीकाकरण की प्रक्रिया को भी अंजाम दिया है। वहीं कई देश ऐसे भी हैं, जिन्होंने टीकाकरण की शुरुआत के साथ अपने पड़ोसी राज्यों को भी टीके भेंट किए हैं।

इसे लेकर वैश्विक स्तर पर उन देशों ने तारीफ पाई है। ऐसे में वैक्सीनेशन को लेकर दुनियाभर में कौनसा देश कहां पहुंचा और टीकाकरण के आंकड़ों को लेकर वो सभी जानकारियां हम आपके साथ साझा करेंगे जिनके सवाल आपके जहन में हैं। यहां आपको कोरोना टीकाकरण से जुड़ी हर पुख्ता जानकारी दी जाएगी।

इस लेख में आप समझेंगे दुनियाभर की वैक्सीन और उससे जुड़ी जानकारी की सारी गणित।  वैक्सीन को लेकर वैश्विक स्तर पर काफी समय से जद्दोजहद देखी गई थी। वैक्सीनेशन को लेकर सभी विकसित देशों ने अपना पूरा जोर लगाया और जल्द से जल्द टीकाकरण की तैयारी का श्रीगणेश किया। इस कड़ी में आप यह भी जानेंगे-

कौनसे देशों ने कौनसी वैक्सीन ईजाद की है?

Covid Vaccine

 

कोरोना वैक्सीन को लेकर बात की जाए तो मौजूदा समय में वैश्विक स्तर पर तो कई देशों में जहां वैक्सीन को लेकर अभी भी परीक्षण किए जा रहे हैं, तो वहीं कुछ देशों में टीकाकरण की प्रक्रिया को शुरू किया जा चुका है। वर्तमान में वैश्विक स्तर पर यदि देशों की वैक्सीन को लेकर बात की जाए तो उसमें रूस ने स्पुतनिक-वी (Sputnik V) वैक्सीन का ईजाद करने के साथ एपिवैक कोरोना वैक्सीन का भी निर्माण किया है।

महामारी (Pandemic) से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले अमेरिका में यदि वैक्सीन ईजाद को लेकर बात की जाए तो उसमें मॉडर्ना (Moderna Vaccine) का टीका तैयार किया गया है। वहीं वैक्सीन निर्माण में सबसे ज्यादा चीन ने तैयार की हैं। चीन ने सिनोवैक (Sinovac Vaccine), कोरोनावैक (Coronavac Vaccine), Convidicea और बीबीआईबीपी-कोरवी वैक्सीन का निर्माण किया है।

इसके अलावा भारत में स्वदेशी वैक्सीन निर्माण के तहत भारत बायोटेक की कोवैक्सीन (Covaxin) का उपयोग किया जा रहा है। वहीं ब्रिटेन में भी एस्ट्राजेनेका (Astrazeneca) की कोरोना वैक्सीन का निर्माण किया गया है, जिसका उपयोग कई देशों में किया जा रहा है। जबकि दुनिया के कई देशों में लगातार वैक्सीन परीक्षण किए जा रहे हैं, जिसके चलते आने वाले समय में कई और टीके देखने को मिलेंगे, जो इस महामारी से लड़ने में अहम भूमिका निभाएंगे।

आखिर वैक्सीन ना होने के बावजूद भी इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात टीकाकरण के मामले में इतना आगे क्यों हैं?

दुनियाभर में कोरोना टीका आने के बाद कई देशों में तुरंत वहां के नागरिकों को वैक्सीन देने की प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया था। जिसमें संयुक्त अरब अमीरात (UAE) और इजराइल (Israel) प्रमुख हैं। वर्तमान में दोनों देशों में दुनियाभर के बाकी देशों के मुकाबले टीकाकरण अभियान काफी तेजी से चलाया जा रहा है।

यूएई में वर्तमान में 4 वैक्सीन का उपयोग किया जा रहा है, जिसमें साइनोफार्म (Sinopharm), फाइजर-बायोएनटेक (Pfizer-Biontech), स्पुतनिक-वी (Sputnik V) और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका (Oxford Astrazeneca) का उपयोग किया जा रहा है।

 

यूएई में साल 2020 के दिसंबर में कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरूआत कर दी गई थी। जिसके बाद अभी तक देश में 60 लाख से ज्यादा कोरोना टीके की खुराक दी जा चुकी है। जिसके चलते प्रति 100 व्यक्तियों में खुराक की दर 60.87 पर पहुंच गई है।

वहीं बात की जाए इजराइल ने सबसे पहले अपने यहां लोगों का टीकाकरण करने का फैसला किया था। वहां पर फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्ना के कोरोना टीके का उपयोग किया जा रहा है। जिसके तहत अभी तक इजराइल में कोरोना वैक्सीन की 8 मिलियन खुराक दी जा चुकी है। इजराइल में अभी तक 36.64 फीसदी जनसंख्या का टीकाकरण पूरा किया जा चुका है।

विश्व भर में वैक्सीनेशन की स्थिति क्या है?

विश्व भर में कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर बात की जाए तो जहां इजराइल और यूएई वर्तमान में बाकी देशों के मुकाबले काफी आगे चल रहे हैं। तो वहीं अमेरिका में अभी तक 72.8 मिलियन वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। जबकि ब्रिटेन में 20.5 मिलियन ही खुराक अभी तक दी जा सकी हैं।

भारत में यदि टीकाकरण को लेकर बात की जाए तो 16 जनवरी को शुरू हुए इस अभियान के तहत 14.2 मिलियन खुराक दी गई हैं। वहीं लगभग 0.18 फीसदी जनसंख्या को वैक्सीन के दोनों टीके दिए जा चुके हैं। दुनिया में वर्तमान में टीकाकरण अभियान को लेकर बात की जाए तो अभी तक कुल 240 मिलियन खुराक दी जा चुकी है। जिसमें पूरी विश्व की जनसंख्या के 0.67 फीसदी लोगों का टीकाकरण पूरा किया जा चुका है।

दुनियाभर में कोरोना टीकाकरण की स्थिति जानने के लिए अलशॉर्ट्स के साथ जुड़े रहें।

AVAILABLE ON

Optimized with PageSpeed Ninja