कोरोना महामारी ने विश्वभर में बढ़ाई अशांति?
जून 18, 2021 | By - नितिन सिंह भदौरिया

कोरोना महामारी ने विश्वभर में बढ़ाई अशांति?

दुनियाभर में कोरोना महामारी (Covid-19) का कहर जारी है। सभी देश अपने स्तर पर महामारी से निपटने का हर संभंव प्रयास कर रहा है। ऐसे में वैश्विक शांति सूचकांक (Global Peace Index) ने बड़ा दावा किया है। वैश्विक शांति सूचकांक के मुताबिक महामारी के दौरान दुनियाभर में संघर्ष के स्तर में इजाफा (Covid-19 increased unrest in the world) देखने को मिला है। इंस्टिट्यूट फॉर इकोनॉमिक्स एंड पीस (Institute for Economics and Peace) ने कहा कि 2020 में पिछले 12 सालों में 9वीं बार दुनिया में झगड़े बढ़ गए हैं। संस्थान के वैश्विक शांति सूचकांक के मुताबिक कुल मिलाकर संघर्ष और आतंकवाद के स्तर में तो गिरावट आई, लेकिन राजनीतिक अस्थिरता और हिंसक प्रदर्शन बढ़ गए।

दुनियाभर में बढ़ी हिसंक घटनाएं

दुनियाभर में बढ़ी हिंसक घटनाएं
दुनियाभर में बढ़ी हिंसक घटनाएं

गौरतलब है कि जनवरी 2020 से अप्रैल 2021 के बीच सूचकांक ने पूरी दुनिया में हुई महामारी से संबंधित 5,000 से ज्यादा हिंसक घटनाएं (Violent Incidents) दर्ज की। महामारी के दौरान 25 देशों में हिंसक प्रदर्शनों की संख्या बढ़ गई, जबकि सिर्फ आठ देशों में इस संख्या में गिरावट देखने को मिला। सबसे खराब हालात बेलारूस (Belarus), म्यांमार (Myanmar) और रूस (Russia) में देखने को मिले, जहां सरकार ने प्रदर्शनकारियों का हिंसक रूप से दमन किया। बता दें कि म्यांमार में सेना ने तख्तापलट कर दिया है और बीते कई महीनों से सेना देश की सत्ता चला रही है। वहीं बड़ी संख्या में लोग इसके विरोध में प्रदर्शन भी कर रहे हैं, जिन पर सुरक्षाबलों द्वारा मारपीट और गोलीबारी की जा रही है। गौरतलब है कि सैन्य तख्तापलट के बाद से म्यांमार में सैंकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है।

अफगानिस्तान में सबसे अधिक अशांति

सबसे अधिक अशांत देश अफगानिस्तान
सबसे अधिक अशांत देश अफगानिस्तान

वैश्विक शांति सूचकांक (Global Peace Index) ने अपनी रिपोर्ट में सबसे शांतिपूर्ण देश और सबसे अशांतिपूर्ण देश के बारे में भी उल्लेख किया है। रिपोर्ट ने अफगानिस्तान को दुनिया का सबसे कम शांतिपूर्ण देश (Most unrest in Afghanistan) पाया गया। इसके बाद यमन, सीरिया, दक्षिण सूडान और इराक को सबसे कम शांतिपूर्ण देशों में बताए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक अफगानिस्तान, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका और मेक्सिको में आधी से भी ज्यादा आबादी ने उनकी रोज की जिंदगी में हिंसा सबसे बड़ा जोखिम बनी हुई है।

शांतिपूर्ण देशों में आइसलैंड फिर अव्वल

अगर बात सबसे शांतिपूर्ण देशों की करें तो आइसलैंड (Iceland) को एक बार फिर सबसे शांतिपूर्ण देश पाया गया है। बता दें कि आइसलैंड ने यह स्थान 2008 से अपने पास ही रखा हुआ है। वहीं पूरे यूरोप को ही कुल मिलाकर सबसे शांतिपूर्ण प्रांत का दर्जा दिया गया है। हालांकि संस्थान के मुताबिक वहां भी राजनीतिक अस्थिरता बढ़ गई है।

कैपिटल हिंसा का भी हुआ जिक्र

अमेरिका में भी बढ़ी हिंसक घटनाएं
अमेरिका में भी बढ़ी हिंसक घटनाएं

रिपोर्ट में बताया गया कि महामारी के दौरान अमेरिकी में भी नागरिक अशांति काफी तेजी से बढ़ी है। हालांकि ऐसा सिर्फ महामारी की वजह से ही नहीं हुआ, इसमें ब्लैक लाइव  मैटर (Black Lives Matter) आंदोलन के विस्तार और जनवरी 2021 में यूएस कैपिटल पर हुए हमले का भी योगदान है। बता दें कि जनवरी में अमेरिका में हुई कैपिटल हिल हिंसा (Capitol Hill Violence) में कई लोगों की मौत हो गई। इस हमले के लिए पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जिम्मेदार बताया गया। जिसके चलते उनके सोशल मीडिया अकाउंट्स पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया।

महामारी से अपराध में गिरावट

वैश्विक शांति सूचकांक रिपोर्ट के मुताबिक कुछ बिंदुओं पर सुधार भी देखने को मिला है। बताया गया कि दुनिया में कई स्थानों पर हत्या की दर और आतंकवाद की वजह से होने वाली मौतों की संख्या, इसके साथ ही महामारी के दौरान अपराध में मामलों में भी काफी हद तक गिरावट देखने को मिली है।

उम्मीद है कि आपको इस ब्लॉग में दी गई जानकारी पसंद आई होगी। AlShorts लगातार ऐसे ही विषयों पर आपको दिलचस्प जानकारी उपलब्ध कराता रहेगा। हमारे साथ जुड़े रहें और पढ़ते रहिए देश और दुनिया से जुड़े रोचक ब्लॉग्स।

AVAILABLE ON

Optimized with PageSpeed Ninja