• calender
आखिर क्या है 2DG दवा, जो कोरोना काल में देगी बड़ी राहत
मई 17, 2021 | By - Gaurav Sen

आखिर क्या है 2DG दवा, जो कोरोना काल में देगी बड़ी राहत

विश्वभर में सार्स कोविड-2 (SARS-CoV-2) से सुरक्षा प्रदान करने वाली दवा पर शोध जारी हैं। इस बीच भारत में 2DG (2-deoxy-D-glucose) नाम के इस एंटी-कोविड ड्रग के पहले बैच को रिलीज कर दिया है। कहा गया है कि इस एंटी कोविड ड्रग के उपयोग से कोरोना के संक्रमण को रोका जा सकेगा, साथ ही मरीज की कृत्रिम ऑक्सीजन पर निर्भरता कम होगी। आज इस दवा को देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने लॉन्च किया है। तो आपको Alshorts इस दवा के बारे में कुछ अहम जानकारी देने जा रहा है…

1. किसने बनाई है 2DG दवा?

एंटी-कोविड मेडिसन, 2डीजी (2DG) का निर्माण भारत के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और डॉ. रेड्डीज़ लैब (हैदराबाद) द्वारा मिलकर तैयार किया गया है। प्रारंभिक तौर पर यह दवा केवल डीआरडीओ के अस्पतालों में उपलब्ध है। लेकिन जून के बाद जब दवा का उत्पादन बढ़ जाएगा, जिसके बाद दवा देश के अन्य अस्पतालों में भी उपलब्ध होगी।

2dg medicine
*सबसे पहले हुआ दवा का क्लीनिकल-ट्रायल।
*फिर सफल नतीजों के बाद दवा की हुई घोषणा।
* आखिर में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने दवा को दी इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी।

2. उपयोग में कैसे लें 2DG दवा?

कोरोना की दवा 2DG का परीक्षण काफी संतोषजनक रहा है, DRDO और डॉ. रेड्डीज द्वारा निर्मित दवा का असर 65 साल पार वालों पर देखा गया है।

what is 2dg

एक नजर यहां भी…

*पावडर (सैशे) के रूप में उपलब्ध दवा पानी में घोल कर मरीज को दी जाएगी, दवा के असर से मरीजों को ऑक्सीजन पर कम निर्भर रहना पड़ेगा।
*प्रारंभिक तौर पर दवा के 10 हजार सैशे DRDO द्वारा उपलब्ध कराए गए हैं। ये सभी सैशे DRDO के अस्पतालों में भेजे गए हैं।
*जून महीने से हर हफ्ते 1 लाख सैशे (पाउच) कोरोना मरीजों के लिए तैयार किए जाएंगे।

4. साल 2020 से चल रहा था दवा पर काम

2DG दवा पर बीते साल अप्रैल-महीने से काम चल रहा था, रक्षा मंत्रालय द्वारा बताया गया है कि यह दवा एक जैनेरिक मॉलिक्यूल है ग्लूकोज का एक एनालॉग है। जिसे सैशे (पाउच) के रूप में उपलब्ध कराया गया है, मरीजों को यह दवा पानी में घोल कर दी जाएगी।
drdo medicine for covid

एक नजर यहां भी…

*दवा का परीक्षण हैदराबाद की सेंटर फॉर सेल्लूयर एंड मॉलिक्यूर बायोलॉजी (सीसीएमबी) के साथ किया गया हैं।
*परीक्षण में पाया गया कि यह दवा सार्स कोविड पर असरदार है और वायरल ग्रोथ को रोकने में सक्षम है।
*दवा के फेज 3 में 27 अस्पतालों में 220 मरीजों पर इस दवा का परीक्षण किया गया है।

5. क्या मिला परीक्षण में

DRDO द्वारा बताया गया कि, मरीजों की दवा के असर से ऑक्सीजन सिलेंडर पर निर्भरता कम हुई। दवा देने के तीसरे ही दिन से मरीजों में इस दवाई का असर दिखाई देने लगा था, जबकि इसी दौरान जो दूसरी दवाईयां कोविड मरीजों को दी जा रही थी उन्हें आर्टिफिशियल-ऑक्सीजन देनी की जरूरत पड़ रही थी। कम उम्र के साथ-साथ 65 साल के आयु वालों पर भी 2DG दवा असरदार दिखाई दी है।

corona medicine

Optimized with PageSpeed Ninja