• calender
वैक्सीन से जुड़े आपके सारे सवालों के जवाब यहां मिलेंगे!
मई 11, 2021 | By - Vaibhav Sharma

वैक्सीन से जुड़े आपके सारे सवालों के जवाब यहां मिलेंगे!

दुनियाभर में कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination Started) शुरू हो चुका है, ऐसे में सभी के मन में कई सवाल हैं। ऐसे ही सवालों के जवाब (question and answer about corona vaccine) लेकर आया है AlShorts जिन्हें पढ़ने के बाद आप काफी हद तक अफवाहों और गलत सूचनाओं से बच सकेंगे। आप चाहे तो सीधे हमसे जुड़कर भी अपनी समस्या रख सकते हैं। ताकि हम आपके सवालों का आधिकारिक जवाब दे सकें।

चलिए शुरू करते हैं आपके सभी सवालों का जवाब-

सवाल- पहली डोज मुंबई में लगवाई है दूसरी डोज दिल्ली में लगवा सकता हूं?
बिलकुल, इसपर कोई पाबंदी नहीं है, आप जहां चाहे इस राज्य या जिले में वैक्सीन लगवा सकते हैं। इसके अलावा जब आपकी पहली डोज (First dose of Vaccine) की 28 दिन की समय सीमा समाप्त हो जाए तब आप जिस भी जिले में हो आप वहां नजदीकी सेंटर पर जा कर वैक्सीन लगवा सकते हैं ।

 

सवाल- क्या मैं पहले वैक्सीन कोविशील्ड और दूसरी कोवैक्स या स्पुतनिक लगवा सकता हूं?
ऐसा ना करें, जब भी दूसरी डोज (Second Dose of Vaccine) लगवाने जाएं तब इस चीज का बेहद ख़ास ख्याल रखे। अपनी पहली डोज को ही दूसरी बार भी लेने की कोशिश करें। मान लीजिए पहली डोज आपने कोविशील्ड ली है तो दूसरी भी कोविशील्ड ही लें।

एक बार वैक्सीन सेंटर पर दूसरी डोज लेने से पहले जरूर पुष्टि कर लें कि आपको पहली डोज वाली वैक्सीन ही लगाई जा रही हो।

 

सवाल- वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज में कितना अंतर रखे?
भारत में अभी ज्यादातर जगहों पर कोविशील्ड लगाई जा रही है, इसके अलावा कोवैक्सीन भी उपलब्ध है।
यदि आपने कोविशील्ड की पहली डोज ली है तो आप इसकी दूसरी डोज 4 हफ्ते से 8 हफ्ते के बीच कभी भी ले सकते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो कोविशील्ड की दूसरी खुराक लेने में जितना ज्यादा समय लगेगा, ये उतनी ही ज्यादा प्रभावशाली होगी। यदि आपने पहली डोज कोवैक्सीन की ली है तो आप इसकी दूसरी डोज 4 से 6 हफ्ते के भीतर कभी भी ले सकते हैं।

 

सवाल- यदि मैं दूसरी डोज ना पाया तब?
चिंता करने की कोई बात नहीं है एक स्टडी में यह सामने आया है कि वैक्सीन की दूसरी खुराक में देरी होने पर चिंता की कोई खास बात नहीं है। सिर्फ आपके शरीर में एंटीबॉडी बनाने की प्रक्रिया को रोक देती है। यदि आप पहली खुराक लेने के लिए दो साल के भीतर दूसरी खुराक नहीं लेते हैं तो आपको शायद दोबारा पहली डोज लगवानी पड़ सकती है।

 

सवाल- आखिर वैक्सीन इतनी जरूरी क्यों है, यह कैसे काम करती है?
विषेशज्ञों के अनुसार, वैक्सीन कि पहली डोज आपके शरीर में पहुंच कर कोरोना वायरस के खिलाफ एक शील्ड का निर्माण करती हैं। ताकि आपका शरीर यह समझ सके कि वायरस ने हमला किया और उसे एंटीबॉडी बनानी है। इसमें 15 दिन का समय लग सकता है। इसके बाद दूसरी डोज को बूस्टर की संज्ञा दी गई है। यह एंटीबॉडी बनने की प्रक्रिया को तेज करता है। यानि आपकी सहरीर से वायरस का नामोनिशान मिटा देता है। इसीलिए वैक्सीन जरूर लगवाएं।

 

एक रिपोर्ट के अनुसार, दूसरी वैक्सीन लगवा लेने व्यक्ति को कोरोना से मौत का खतरा बिलकुल नगण्य हो जाता है। हमारी सलाह है जल्द से जल्द वैक्सीन लगवाएं और कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अपने देश का साथ दें।

सवाल- यदि मैं ठीक हूं तब भी क्या मुझे वैक्सीन लगवानी चाहिए?
इस वक्त सभी को वैक्सीन की जरूरत है, ज्यादा से ज्यादा वैक्सीनेशन के बाद ही हम हर्ड इम्युनिटी तक पहुंचेंगे। साथ ही अपने लिया नहीं बल्कि अपनी परिवार की सुरक्षा के लिए वैक्सीन जरूर लें।

 

कोरोना वैक्सीन से जुड़े अपने किसी भी सवाल के लिए हमें लिखे या हमारे ट्विटर पेज पर अपने सवाल पूछे @AlShortsHindi

Optimized with PageSpeed Ninja